मंगल ग्रह का धरती के सबसे करीब का संयोग ।


दिनांक 06 अक्टूबर 2020 की रात्रि आकाश में सबसे ज्यादा चमकदार अगर कोई पिंड दिखाई दिया तो वो मंगल ग्रह था । क्योंकि 06 अक्टूबर 2020 को मंगल ग्रह पृथ्वी के सबसे ज्यादा करीब था जिसे पेरीगी की अवस्था भी कहते है । जिसमे मंगल ग्रह की दूरी पृथ्वी से मात्र 62.07 मिलियन किलोमीटर रह गई थी । मंगल ग्रह मध्य रात्रि आकाश में सबसे ज्यादा चमकदार और दक्षिण दिशा के रात्रि आकाश में सबसे ज्यादा उच्चाई लिए हुए लाल रंग से चमकता हुआ नजर आया । जो की अगले कुछ दिनों तक दिखाई देगा । और धीरे धीरे मंगल ग्रह की चमक भी कम होने लगेगी । लखनऊ की खगोल विज्ञान की संस्था स्काई फाउंडेशन के निदेशक श्री राहुल सिंघानिया और स्काई फाउंडेशन के SKYAAC विंग के प्रेसिडेंट श्री स्वप्निल रस्तोगी से मंगल ग्रह के पृथ्वी के सबसे करीब आने को के ले कर हुई चर्चा में उन्होंने बताया कि संस्था द्वारा इस पर कई वीडियो अपलोड किए जाएंगे । ताकि लोग घर बैठे बैठे ही मंगल ग्रह को निहार सके ।


मंगल ग्रह का अपोजिशन दिनांक 14 अक्टूबर 2020 को है । जिस दिन मंगल ग्रह पूरी रात्रि नजर आएगा ।14 अक्टूबर को शुक्र ग्रह और चंद्रमा का कंजंक्शन भी नजर आएगा ।29 अक्टूबर को चंद्रमा और मंगल ग्रह की युति या कंजंक्शन नजर आएगा ।


मंगल ग्रह धरती के सबसे ज्यादा करीब प्रत्येक लगभग 2 वर्ष या लगभग 26 महीने में आता है । ठीक ठीक लगभग 780 दिनों में । यदि मंगल ग्रह धरती के सबसे ज्यादा करीब आ जाए तो धरती और मंगल ग्रह के बीच की दूरी मात्र 54.6 मिलियन किलोमीटर रह जाएगी ।



और ऐसा 60000 साठ हजार सालों में पहली बार , इससे पहले मंगल ग्रह पृथ्वी के सबसे ज्यादा करीब वर्ष 2003 में आया था । अगला सबसे ज्यादा करीब की स्तिथि वर्ष 2287 में होगी । जिसमे मंगल और धरती के बीच की दूरी न्यूनतम हो गई थी ।



6 अक्टूबर 2020 से पहले मंगल ग्रह 27 जुलाई 2018 को धरती के सबसे ज्यादा करीब आया था ।भविष्य में ये लगभग 26 महीने बाद 8 दिसंबर 2022 को धरती के सबसे ज्यादा करीब आएगा जिसमे धरती और मंगल ग्रह की दूरी 62.07 मिलियन किलोमीटर रह जाएगी ।


चंद्रमा का धरती के सबसे करीब की अवस्था में आना खगोल वैज्ञानिकों के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है । क्योंकि हर 26 महीने पर वैज्ञानिकों के पास मंगल ग्रह के लिए मिशन शुरू करने के लिए ऐक महत्वपूर्ण खिड़की होती है ।


यही कारण है कि मंगल ग्रह के लिए मिशन हर दो साल में एक बार ही भेजे जा सकते है । जैसे वर्ष 2020 में नासा ने अपना मिशन " मार्स 2020 " लॉन्च किया है । जो की मंगल ग्रह पर अपने रोवर प्रिजवेंस के साथ 18 फरवरी 2021 को पहुंचेगा और वर्ष 2022 में " मार्स सैंपल रिटर्न " नाम से मिशन लॉन्च करेगा ।


यहां ये भी याद रखना चाहिए कि मंगल ग्रह का बेस्ट व्यू धरती वासियों को हर 15 से 17 सालों में एक या दो बार ही देखने को मिलता है ।


यदि आज आप मंगल ग्रह को निहारने से चूक गए है तो भी कोई बात नहीं । अगले 14 अक्टूबर तक आप इसे रात्रि आकाश में बड़ी आसानी से पहचान सकते है और निहार सकते है । ऐस्ट्रो फोटो ग्राफी के लिए 14 अक्टूबर और उसके बाद लगभग 10 दिनों तक का रात्रि आकाश सबसे उत्तम है ।



अर्पण गुप्ता,

Outreach Programs Coordinator,

Executive Member, SKYAAC





94 views2 comments

© 2020 Scientific Knowledge for Youth Foundation.

  • Facebook
  • Instagram
  • YouTube
  • Twitter
  • TikTok